Swami Vivekananda Quotes In Hindi

Swami Vivekananda Quotes On Youth

Swami Vivekananda Quotes

दूरदर्शी आध्यात्मिक नेता: स्वामी विवेकानन्द

12 जनवरी, 1863 को नरेंद्रनाथ दत्त के रूप में जन्मे स्वामी विवेकानन्द एक प्रसिद्ध भारतीय आध्यात्मिक नेता और दार्शनिक थे, जिन्होंने भारत की वैदिक और योग परंपराओं को पश्चिम में पेश करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। भारत और दुनिया भर में लाखों लोग आज भी उनके जीवन और शिक्षाओं से प्रेरित हैं।

भारत के कोलकाता में एक कट्टर हिंदू परिवार में जन्मे और पले-बढ़े स्वामी विवेकानन्द अपने गुरु, श्री रामकृष्ण परमहंस से बहुत प्रभावित थे, जिन्होंने उन्हें गहन आध्यात्मिक समझ दी जो उनके जीवन के कार्य को निर्धारित करेगी। “अमेरिका की बहनों और भाइयों,” विवेकानंद ने 1893 में शिकागो में विश्व धर्म संसद के समक्ष अपने महत्वपूर्ण भाषण की शुरुआत करते हुए पश्चिमी दर्शकों को हिंदू धर्म से परिचित कराया। आस्थाओं के सामंजस्य पर उनके प्रभावशाली और मार्मिक भाषण का लंबे समय तक प्रभाव रहा और उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति मिली।

स्वामी विवेकानन्द की शिक्षाओं में आत्मा की दिव्यता और आस्थाओं की एकता मौलिक विचार थे। उन्होंने आत्म-बोध, दूसरों की मदद करने के मूल्य और इस धारणा पर जोर दिया कि हर किसी में अपनी आंतरिक दिव्यता को व्यक्त करने की क्षमता है। उनकी अवधारणा में सामाजिक अन्याय उन्मूलन के साथ-साथ शिक्षा की उन्नति भी शामिल थी।

उन्होंने 1897 में रामकृष्ण मिशन की स्थापना की; यह मानवतावाद, शिक्षा और आध्यात्मिक विकास के उनके उद्देश्यों को आगे बढ़ाते हुए आज भी काम कर रहा है।

इस परिचय में आध्यात्मिकता, दर्शन और सामाजिक परिवर्तन पर स्वामी विवेकानन्द के व्यापक प्रभाव को बमुश्किल ही छुआ गया है। हम आगे के भागों में उनके जीवन, उनके सिद्धांतों और उनके स्थायी प्रभाव के बारे में अधिक विस्तार से जानेंगे।

ज़रूर पढ़ें : स्वामी विवेकानंद के इंस्पायरिंग थॉट्स

“उठो, जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य न सामने हो जाए।”

स्वामी विवेकानंद

“अपनी मानसिकता को स्वतंत्र रखो, विश्वास रखो और अपने आप को असीमित शक्ति का स्वामी बनाओ।”

स्वामी विवेकानंद

“जो कुछ भी करो, उसे श्रद्धांजलि के साथ करो।”

स्वामी विवेकानंद

“आज की इच्छाशक्ति कल की सफलता बनती है।”

स्वामी विवेकानंद

“जब तक तुम कुछ करने का निर्णय नहीं करते, तब तक कुछ नहीं हो सकता।”

स्वामी विवेकानंद

Swami Vivekananda Quotes

“मनुष्य वही बनता है जो वह सोचता है, जो वह मानता है और जिसके पीछे वह भागता है।”

स्वामी विवेकानंद

Also Read: Narendra Modi Quotes

“मन को जितना शक्तिशाली बनाओ, तुम उतना ही शक्तिशाली बनो।”

स्वामी विवेकानंद

“अपनी विचारशक्ति को निर्मल और प्रशांत बनाओ, और तुम जो कुछ भी चाहोगे, उसे प्राप्त करोगे।”

स्वामी विवेकानंद

“आपका आत्मविश्वास आपकी असीमित शक्ति का स्रोत है।”

स्वामी विवेकानंद

“यदि तुम आत्मा की महिमा को समझो, तो तुम अबल्ब नहीं रहोगे.”

स्वामी विवेकानंद
Swami Vivekananda Quotes

“आपकी देखी हुई चीजों की मूर्ति आपके मन को बनाती है.”

स्वामी विवेकानंद

Swami Vivekananda Quotes For Students

“जो भी कुछ हम करते हैं, वह हमें बनाता है.”

स्वामी विवेकानंद

“धर्म में सच्चाई और ईमानदारी होनी चाहिए.”

स्वामी विवेकानंद

“आत्मा में शक्ति है, जिसे पहचानो, समझो और उसका उपयोग करो.”

स्वामी विवेकानंद

“समृद्धि केवल धन की नहीं होती, बल्कि शिक्षा और आत्मविश्वास की भी होती है.”

स्वामी विवेकानंद

“मन में पूरी ईमानदारी के साथ आगे बढ़ो.”

स्वामी विवेकानंद

Swami Vivekananda Quotes on Success

“विश्वास रखो, विश्वास के साथ कार्रवाई करो.”

स्वामी विवेकानंद

“अगर आपको अपने लक्ष्य पर विश्वास है, तो आपको आगे बढ़ने में कोई कोई दिक्कतें आएंगी, लेकिन विश्वास टूटने नहीं चाहिए.”

स्वामी विवेकानंद

“समाज सेवा में ही सच्चा धर्म है.”

स्वामी विवेकानंद
Swami Vivekananda Quotes

“जब तुम पूरी ईमानदारी के साथ कुछ काम करते हो, तो तुम वही काम करते हो जो सबसे अच्छा है.”

स्वामी विवेकानंद

“अपने मार्ग पर सच्चाई और न्याय के साथ बढ़ो.”

स्वामी विवेकानंद

“जब तुम अपने कर्मों में सच्चाई और प्रेम डालते हो, तो वह कर्म दिन-प्रतिदिन बढ़ते जाते हैं.”

स्वामी विवेकानंद

“सच्चे संतों के साथ समय बिताना आत्मा को शांति देता है.”

स्वामी विवेकानंद

Swami Vivekananda Quotes In Hindi

“केवल धर्म में ही सच्चा आत्मा का समर्पण होता है.”

स्वामी विवेकानंद

“हर काम में पूरी उम्मीद और समर्पण के साथ करो.”

स्वामी विवेकानंद

“धर्म में केवल आचारण करना काफी नहीं होता, बल्कि अनुषासन भी जरूरी है.”

स्वामी विवेकानंद

“मनुष्य के अच्छे कर्म ही उसके सबसे अच्छे मित्र होते हैं.”

स्वामी विवेकानंद

“जीवन का सही अर्थ यह है कि हमें सबसे अच्छा कर्म करना चाहिए और किसी का भी नुकसान नहीं पहुंचाना चाहिए.”

स्वामी विवेकानंद

“आपके अंदर वो शक्ति है जो आपको सब कुछ करने की क्षमता प्रदान कर सकती है।”

स्वामी विवेकानंद

“जब तक आपका लक्ष्य अच्छा हो, तब तक आपका कार्य भी अच्छा होगा।”

स्वामी विवेकानंद

By Ruchi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *